ऊर्जा कितने प्रकार के होते हैं? - Types of Energy in Hindi

Types of Energy in Hindi

ऊर्जा कितने प्रकार के होते हैं? 


ऊर्जा के विभिन्न रूपो को इस पोस्ट में हमने सूचीबद्ध किया है । वैसे तो इस दुनिया में उर्जा के बहुत सारे रूप होते हैं ।

ऊर्जा हमारे लिए विभिन रूपों जैसे यांत्रिक , ऊष्मीय , प्रकाश , विद्युत् , चुम्बकीय , ध्वनि तथा नाभिकीय ऊर्जा के रूप में उपलब्ध हैं ।

1 . यांत्रिक ऊर्जा (Mechanical energy)

यांत्रिक ऊर्जा (Mechanical energy) example

किसी पिंड में उसकी गति ( गतिज ) अथवा स्थिति ( स्थितिज ) के कारण कार्य करने की जो क्षमता होती हैं , वह पिंड की यांत्रिक ऊर्जा कहलाती हैं ।

( a ) स्थितिज ऊर्जा ( Potential energy ) -

स्थितिज ऊर्जा ( Potential energy ) example


किसी पिंड को पृथ्वी से किसी ऊँचाई तक उठाने में विद्यमान ऊर्जा उसकी स्थितिज ऊर्जा है ।

( b ) गतिज ऊर्जा ( kinetic energy ) -

गतिज ऊर्जा ( kinetic energy ) example

किसी पिंड की गति के कारण कार्य करने की क्षमता गतिज ऊर्जा होती है ।

2 . उष्मीय ऊर्जा ( Thermal energy )


उष्मीय ऊर्जा ( Thermal energy ) example

यह ऊर्जा का एक रूप है जो शरीर के अंदर प्रवाहित होकर गर्माहट का एवं शरीर के बाहर प्रवाहित होने पर ठण्डक का अहसास देता है ।

3 . प्रकाश ऊर्जा ( light energy )


प्रकाश ऊर्जा ( light energy ) example

ऊर्जा का वह रूप जो विभिन्न वस्तुओं को देखने में उपयोगी हैं । प्रकाश ऊर्जा कहलाता है ।

4 . विद्युत् ऊर्जा ( Electric energy )


विद्युत् ऊर्जा ( Electric energy ) example

हमारे घरों में बल्यों को जलाने , पंखे चलाने , पंप चलाने , कमरे गर्म रखने , टी . वी , रेडियो , फ्रिज आदि को चलाने वाली ऊर्जा विद्युत् ऊर्जा है । विद्युत् ऊर्जा आवेशित कणों की गति के कारण उत्पन्न होती है ।

5 . चुम्बकीय ऊर्जा ( Magnetic energy )

चुम्बकीय ऊर्जा ( Magnetic energy ) example

चुम्बक में कार्य करने की निहित ऊर्जा चुम्बकीय ऊर्जा कहलाती है ।

6 . ध्वनि ऊर्जा ( sound Energy )


ध्वनि ऊर्जा ( sound Energy ) example

ऊर्जा का वह रूप जो सुनने में हमारी सहायता करता है , ध्वनि ऊर्जा कहलाता है ।

7 . नाभिकीय ऊर्जा ( Nuclear power )


नाभिकीय ऊर्जा ( Nuclear power ) example


नाभिकीय ऊर्जा गैर - पारम्परिक ऊर्जा का एक प्रकार है , जो द्रव्यमान के ऊर्जा में रूपांतरण के समय नाभिकीय अभिक्रियाओं द्वारा मुक्त होती है ।

नोट:- इसमें गैर और पारंपारिक ऊर्जा का मतलब होता है । वह ऊर्जा स्त्रोत जो कई वर्षों से उपयोग होते आ रहे हैं । उन्हें परंपरागत या पारंपारिक ऊर्जा स्त्रोत कहते हैं ।

जैसे कि:- कोयला, पेट्रोलियम, प्राकृतिक गैस ।

Images by :- solar School, asa's Energy Terms

Post a Comment

0 Comments