सेमीकंडक्टर क्या होता है? - What is Semiconductor in Hindi

What is Semiconductor in Hindi


Introduction to semiconductor 


हमने अपनी दैनिक जीवन में देखा है । Electronic device में अनेक components उपयोग होते हैं जैसे : resistors , transistor , capacitors , diode , battery इत्यादि उपयोग होते हैं ।

जिसमें transistor एक ऐसा components होता है, जिसके अविष्कार से electronic का विकास बहुत ही तेजी से हुआ

या , दूसरे शब्दो में कहें तो वर्तमान में उपलब्ध सभी electronic device में transistor निश्चित रूप से प्रयोग किया जा रहा है ।

इसी transistor के कार्य में semiconductor महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है ।

Semiconductor को समझने के लिए conductors . insulators के विषय में जानना आवश्यक होता है ।

और इनके विषय में जानने से पहले आपको atoms , electron . nuclear इत्यादि के विषय में जानकारी होना आवश्यक है ।

तो फिर चलिए इनके बारे में जानते हैं बेसिक नॉलेज ही सिर्फ ।😊

Atoms , Nuclear and Electrons : 


हमें पता है कि दुनिया में उपलब्ध सभी objects , atoms से मिलकर बने हैं । जैसे :


Structure of atoms - what is semiconductor in Hindi


किसी एक atom को आप अगर अलग करके देखे जैसे ऊपर क चित्र में ' Structure of atoms ' में दिखा गया है ।

ध्यान देंगे कि एक atoms के बीच में एक nuclear होता है । जिसके चारो आर electron चक्कर लगाते रहते हैं ।

जिसके सबसे बाहर के electron पर ही सामान्यतः कार्य किया जाता है ।

क्योंकि electron को यदि बाहर निकालना चाहे तो सबसे बाहर के electron को निकालना सबसे आसान होगा ।

Electron की भी दो स्थिति होती हैं, कुछ ऐसे atoms होते हैं । जिसमें electron बहुत ही ताकत से एक दूसरे से जुड़े हुए होते हैं ।

जबकि कुछ atom के electrons ढीला होते हैं । इसलिए ढीला electron को निकालना आसान होता है ।

और atoms के बाहरी electron सबसे ढीला होता है ।

इसलिए इन्हें आसानी से निकाला जा सकता है ।

Conductors : 


इसमें सभी electron एक दूसरे से कम ताकत से जुड़े ( loosely bound ) हुए होते हैं अर्थात इसमें free electron होते हैं ।

इसलिए इन्हें निकालना आसान होता है, जैसे thermal energy ( गरम करके ) हम conductor के बाहरी electron को अलग कर सकते हैं ।

जिससे वह अपने orbit में कही भी घूम सकता है । सभी प्रकार के धातु जैसे : लोहा ( iron ) . सोना ( gold ) . चांदी ( silver ) इत्यादि conductor के उदाहरण है ।

Isolators : 


इसमें free electron नहीं होते अर्थात् इसमें electron एक दूसरे से पूरी ताकत से जुड़े हुए ( tightly bound ) होते हैं ।

इसलिए इन्हें अलग करना कठिन होता है । Insulator का उदाहरण जैसे : प्लास्टिक ( plastic ) , कॉच ( glass ) , लकड़ी ( wood ) इत्यादि हो सकते ।

Semiconductors : 


Conductor को समझने के बाद आप समझ ही गये होंगे कि semiconductor में electron किसी प्रकार होते होंगे ।

Semi conductor अर्थात् आधा conductor , जिस प्रकार conductor में electron free होते हैं,

तो इसमें electron पूरी तरह से free नहीं होते हैं, न ही ताकत से एक दूसरे से जुड़े हुए होते हैं ।

Semiconductor का उदाहरण silicon ( Si ) , germanium ( Ge ) और gallium arsenide ( GaAs ) होते है ।

जिसमें सिलिकान ( silicon ) सबसे अधिक प्रयोग किया जाता है । इसमें electron न तो पूरी तरह से बंधे हुए होते हैं, और ना ही पूरी तरह से खुले हुए होते हैं ।

Functions of semiconductor devices : 


Semiconductor , इस प्रकार का होता है, कि किसी force के द्वारा इनके atoms से electron को अलग किया जा सकता है ।

इसमें कुछ free electron ( moderately bound ) होते हैं, क्योंकि ये अपने atoms से बंधे हुए नहीं होते । इसलिए इन्हें कुछ विशेष परिस्थिति में एक स्थान से दूसरे स्थान पर भेजा जा सकता है ।

Semiconductor में atoms इस प्रकार के होते है कि यह आवश्यकता पड़ने पर अपने electron को दूसरे को दे सकते हैं । या

उनसे electron ले सकते हैं,  जिसे crystalline structure कहते हैं । 

इस प्रकार के structure को प्राप्त करने के लिए मुख्य धातु में कुछ मात्रा में semiconductor धातु जैसे silicon या germanium को मिला दिया जाता है ।

Silicon के सभी atoms समान होते हैं, परंतु सभी एक दूसरे से अलग - अलग होते हैं ।

Atoms तो समान होते हैं , परंतु प्रत्येक electron का energy level अलग - अलग होते हैं ।

क्योंकि यदि कोई एक atom के सभी electron अपने nuclear से interact करता है ।

परंतु सभी atoms पास - पास है, तो electron अपने आस - पास के nuclear से interact होता है, इससे सभी atoms के energy level अलग - अलग हो जाते हैं ।

silicon ( Si ) एक ऐसा धातु है, जिसमें semiconductor के गुण होते है । इसका atomic number 14 होता है । 

Structure of silicon atoms - what is semiconductor in Hindi

ऊपर के चित्र में Silicon atoms को देखेंगे तो उसके तीसरे orbit में केवल चार electrons है । इसके तीसरे orbit में 6 electron के लिए जगह है,

जिसमें नया electron आ सकता है । इस प्रकार एक छोटे से silicon के टुकड़ों में लाखों atoms होते हैं ।

इसलिए जब इसमें force लगया जाता है, तो इन्हीं space के लिए atoms के nuclear अपने पास के atoms के electron को अपनी ओर आकर्षित करती है ।

जिससे energy पैदा होता है । यह प्रक्रिया silicon के लाखो atoms के बीच चलता रहता है । इसलिए electronic device ( transistor , IC , diode इत्यादि ) में silicon , germanium का उपयोग किया जाता है ।

अब तो आप समझ ही गए होंगे कि इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस कैसे काम करते हैं। 😊

conclusion


उम्मीद करता हूं कि आपको  सेमीकंडक्टर क्या होता ( what is semiconductor in Hindi ) है । में अच्छी खासी नॉलेज हो गई होगी अगर फिर भी आपको कोई डाउट है तो आप सीधे कमेंट करके पूछ सकते हैं ।

Post a Comment

0 Comments