एक बाज के बच्चे की कहानी - Story of an eagle's child

Motivation Story Short Hindi - Story of an eagle's child


Motivation Short Story In Hindi

आज हम एक बाज के बच्चे की कहानी सुनेंगे, जो बहुत की क्यूट और प्यारा था, 

तो चलिए शुरू करते हैं ।

एक बार की बात है जब मुर्गियां के अंडों के बीच एक बाज का अंडा आ गया, 

कुछ दिनों के बाद उन अंडों में से चूजे निकालने लगे और उसमें बाज का अंडा था तो उसमें एक बाज का बच्चा निकला, 

उस बच्चे को यह नहीं पता था कि वहां एक बाज का बच्चा है, 

वहां उन्हीं चूजो के बीच रहता था और उन्हीं के साथ मिट्टियों में खेलता था, जो चुजे करते हैं वही काम बाज का बच्चा भी करता, 

दिन भर मिटटी में खेलना, दाने चुभना, और उन्हीं चूजों की तरह चू चू करते रहना । 

जब मुर्गी के बच्चे उड़ने की कोशिश करते हैं तो वहां भी उड़ने की कोशिश करता लेकिन उड़ नहीं पाता था । 

" पंख फड़फड़ा ते हुए नीचे आ जाता था "

फिर 1 दिन की बात है जब उसने आसमान में एक पक्षी को उड़ते हुए देखा, उसे नहीं पता था कि वह पक्षी कौन हैं लेकिन बहुत ही शानदार और बहुत ही शक्तिशाली नजर आता है, 

तब थोड़ी देर बाद उसने चीजों से पूछा कि वह शानदार बहुत शक्तिशाली पक्षी कौन है जो आसमान में उड़ रहा है । 

उसको देखने से ऐसा प्रतीत होता है कि मानो में उसका ही एक रूप हूं, ऐसी बात सुनकर चूजे हंसने लगी ।

चूजों के बच्चे ने उसको बताया :- जो आसमान में अभी उड़ रहा है वह एक बाज है, जिसे पक्षियों का राजा भी कहते हैं, 

वह बहुत ही ताकतवर और विशाल, शक्तिशाली पक्षी है, 

"लेकिन तुम बाज की तरह नहीं उड़ सकते क्योंकि तुम एक चूजे हो" 

यह बात सुनकर बाज के बच्चे ने उनकी बात को सच मान लिया और उसने कभी उड़ने की कोशिश नहीं की।  

वह जिंदगी भर चीजों की तरह रहा, और 1 दिन चीजों की तरह ही मर गया, बिना अपनी असली ताकत को पहचाने । 

इस कहानी से हमें क्या सीख मिला ।

आज हर एक युवा वही, बाज़ है. और ये समाज, चूजे। 

जब भी कोई ( युवा व्यक्ति ) कुछ नया करने की कोशिश करता, अपनी मेहनत के दम पर आगे बढ़ने की कोशिश करता, 

तो चूजे के भाती समाज उसे पीछे खींचने लग जाता है, 

आज सभी युवाओं में बाज की तरह होने की क्षमता है, लेकिन बिना अपनी क्षमता जाने, समाज की बातों में आकर कभी अपनी असली क्षमता और ताकत समझ नहीं पाते हैं,

और एक आम जिंदगी जीते रहते हैं और आम लोगों की तरह ही मर जाते हैं । 

लेकिन सच तो यह है कि हम मैं क्षमता है, मेरा कहना होगा कि आप अपनी काबिलियत को पहचाने और भरोसा करे, 

आज नहीं तो कल आप जरूर उठ पाएंगे,  लेकिन कोशिश करना कभी ना छोड़ हमेशा प्रयास करें ।

सही मार्गदर्शन ले, कुछ नया करें कुछ नया सीखे । 

आपका धन्यवाद 😊😊



Post a Comment

0 Comments